All India Traffic Rules : भारत में ट्रैफिक नियमों का पालन नहीं करने वाले नागरिकों की संख्या बहुत बड़ी है। यही कारण है कि भारत में सड़क दुर्घटनाओं की संख्या भी अधिक है। इसलिए हम ट्रैफिक नियमों और उनका पालन न करने पर जुर्माने की जानकारी लगातार प्रकाशित कर रहे हैं। अगर नागरिक बिना नियमों का पालन किए वाहन चलाना शुरू कर दें तो लोगों का सड़कों पर चलना मुश्किल हो जाएगा। साथ ही हादसों की संख्या भी बढ़ सकती है। इसलिए ट्रैफिक नियम (Traffic Rules) लागू किए गए हैं। ट्रैफिक नियमों का उल्लंघन करने वाले के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

ऐसे मामलों में यातायात अधिकारियों द्वारा चालान जारी किया जाता है या कुछ मामलों में ट्रैफिक नियम उल्लंघनकर्ता को जेल की सजा भी हो सकती है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि हॉर्न बजाने से भी चालान काटा जा सकता है? हाँ! यह सच है। हॉर्न बजाने पर भी आपका चालान कट सकता है। लेकिन कहीं हॉर्न बजाने से चालान नहीं कटता। तो शहर में कुछ जगह ऐसी भी हैं जहां हॉर्न बजाना प्रतिबंधित है।

ऐसे स्थानों या स्थानों को ‘नो हॉर्न प्लेस’ (No Horn Zone) या ‘नो हॉर्न ज़ोन’ (नो हॉर्न ज़ोन) कहा जाता है। स्कूलों, अस्पतालों और उनके आसपास की सड़कों को नो हॉर्न जोन घोषित किया गया है। इन जगहों पर ‘नो हॉर्न जोन’ बोर्ड या साइन बोर्ड लगाए जाते हैं।

सावधान रहें और जब आप ऐसा बोर्ड देखें तो हॉर्न न बजाएं। अगर आप नो हॉर्न जोन में हॉर्न बजाते हुए पकड़े जाते हैं, तो आपको हजारों रुपये का जुर्माना भरना होगा।

नो हॉर्न जोन में हॉर्न बजाने वालों पर मुकदमा चलाया जाता है। लेकिन अलग-अलग शहरों में यह क्रिया अलग-अलग होती है। साथ ही जुर्माने की राशि अलग भी हो सकती है। यह नियम ध्वनि प्रदूषण को कम करने के लिए बनाया गया है। इसलिए लोगों को नो हॉर्न जोन में हॉर्न नहीं बजाना चाहिए। मूल रूप से सामान्य सड़कों पर भी हॉर्न का उपयोग न करने का प्रयास करें। जरूरत पड़ने पर ही हॉर्न का इस्तेमाल करना चाहिए।

Share.

Leave A Reply