Maharashtra Vehicle Scrappage Policy : पिछले कुछ दिनों से पूरे देश में कब और कैसे वाहन कबाड़ नीति लागू की जाएगी, इस पर चर्चा हो रही थी। कुछ लोगों को अभी भी संदेह है कि उनके पुराने वाहनों का क्या होगा? सामान्य वर्ग की प्रतिक्रिया है कि वाहन स्क्रैपिंग नीति में बहुत से लोगो को नुकसान होगा। हालांकि, एक नई रिसर्च सामने आई है, जिसमें कुछ बेहद चौंकाने वाली जानकारियां सामने आई हैं। इस जानकारी के मुताबिक अकेले महाराष्ट्र में ही 20 लाख से ज्यादा वाहनों की स्क्रैपिंग होने जा रही है। इतना ही नहीं, यह भी समझा जाता है कि कार्यवाही ऑनलाइन की जाएगी।(Maharashtra Vehicle Scrappage Policy)

यह भी पढ़ें: सिर्फ 1 लाख में घर लाएं Maruti Alto K10; देना होगा सिर्फ ‘इतना’ EMI

केंद्र सरकार ने कुछ दिन पहले मोटर व्हीकल (व्हीकल स्क्रेपिंग फैसिलिटी रजिस्ट्रेशन एंड ऑपरेशन) संशोधन नियम, 2022 को लेकर एक अहम सर्कुलर निकाला था। इसके मुताबिक 20 साल से ज्यादा पुराने निजी वाहन और 15 साल पुराने कमर्शियल वाहनों को स्क्रैप किया जाएगा। लेकिन यहां एक बात का ध्यान रखना जरूरी है कि वाहनों का फिटनेस टेस्ट किया जाएगा, जिस पर यह तय होगा कि किन वाहनों को स्क्रैप किया जाए और कौन सा नहीं।

हालांकि इस प्रक्रिया को अंजाम देते समय वाहन मालिकों पर कोई दबाव नहीं डाला जाएगा। लेकिन वाहनों का फिटनेस टेस्ट सभी के लिए अनिवार्य है।
यदि आपका वाहन फिटनेस परीक्षण में विफल रहता है, तो इन वाहनों से ईंधन, इंजन, एंटी-फ्रीज और अन्य गैसों और तरल पदार्थों को स्क्रैप सुविधा केंद्रों में ले जाकर हटाया जाएगा और फिर वाहनों को स्क्रैप कर दिया जाएगा। प्रक्रिया को वाहन पोर्टल पर पूरी तरह से डिजिटल किया जाएगा और इन वाहनों के दस्तावेजों को आधिकारिक स्क्रैपिंग केंद्र पर संसाधित किया जाएगा।

( बाईक-कारों पर ऑफ़र, जानकारी और सभी News प्राप्त करने के लिए लिंक पर क्लिक करके ‘द गाडीवाला’ व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें :- https://wa.me/919850875845?text=I-am-interested%20

Share.

Leave A Reply