नई दिल्ली: देशभर के कई राज्यों में बारिश का कहर जारी है. कुछ लोगों को गर्मी से राहत मिली है तो कुछ के लिए बारिश आपदा बन गई है। बारिश के मौसम में पहाड़ी इलाकों में लोगों का मन करेगा कि वे अपने परिवार के साथ अपनी कारों में यात्रा करें।

 लेकिन वही मूसलाधार बारिश सड़क हादसों का कारण बनती है। इन हादसों का मुख्य कारण अक्सर लोगों की लापरवाही होती है। कुछ लोग बरसात के मौसम में अपनी कारों की ठीक से जांच नहीं करते हैं। यानी ब्रेक, टायर प्रेशर, वाइपर आदि। चल रही बारिश में सावधानी से गाड़ी चलाना जरूरी है।

मानसून में अगर आपकी गाड़ी रोजाना चलती है, तो आपको इसकी अच्छे से देखभाल करनी होगी। आइए जानते है मानसून में अपनी गाड़ी को टकाटक रखने के टिप्स!

ब्रेक चेक-
बरसात के मौसम में वाहन चलाते समय ब्रेक की आवश्यकता सबसे ज्यादा होती है। इसलिए ब्रेक को हमेशा चेक करना चाहिए। बारिश के मौसम में सड़कों पर ब्रेक लगाना थोड़ा मुश्किल होता है। ब्रेक को सही समय पर महसूस करने के लिए नियमित रूप से ब्रेक की जांच करने की आवश्यकता होती है।

आवश्यक उपकरण-
बरसात के मौसम में आपके वाहन में आवश्यक उपकरण और सहायक उपकरण होने चाहिए। आपकी कार को मेडिकल किट, यूएसबी चार्जर, टॉर्च, रस्सी, पावर बैंक के साथ रखना चाहिए।

 इसके अलावा ग्रिप, स्क्रू ड्राइवर समेत टूल्स का होना भी बहुत जरूरी है। अगर आपकी कार बीच में ही खराब हो जाती है तो आपके पास मौजूद ये सारी चीजें काम आ सकती हैं।

धीमी गति से वाहन चलाना

बारिश में गाड़ी चलाते समय कार के फिसलने का खतरा बढ़ जाता है। इसलिए, मानसून की शुरुआत में, आपको अपनी कार के टायरों की पकड़ की जांच करनी चाहिए। अगर कार का टायर खराब हो गया है तो उसे तुरंत बदल दें।

 बरसात के दिनों में सड़कें गीली हो जाती हैं, जिससे फिसलन का खतरा बढ़ जाता है। वहीं बारिश के मौसम में कीचड़ और पानी से भरे गड्ढों के कारण गाड़ी के पुराने पहिए आपको परेशानी में डाल सकते हैं.

सर्विसिंग –
सामान्य दिनों की तुलना में बरसात के मौसम में वाहन क्षति होने की संभावना अधिक होती है। ऐसे में मानसून में ड्राइविंग से पहले आपकी कार की सर्विसिंग कर लेनी चाहिए। इससे आपको भारी बारिश के दौरान गाड़ी चलाने पर भी कार खराब होने की चिंता नहीं करनी पड़ेगी।

Share.

Leave A Reply