Vehicle Scrappage Policy 2021 : Vehicle Scrappage Policy को लागू करने के प्रयास पिछले कई दिनों से चल रहे हैं। लोगों को भी इस नीति के बारे में ज्यादा पता नहीं था। हमारे पुराने वाहनों का क्या होगा? कई लोगों के मन में यह सवाल था। ऐसे में एक अहम जानकारी सामने आई है। आखिरकार सरकार ने Vehicle Scrappage Policy को लागू कर दिया है और अब कानून इसी Vehicle Scrappage Policy के मुताबिक काम करने जा रहा है।

सबसे पहले तो इस बात का ध्यान रखना जरूरी है कि यह Vehicle Scrappage Policy उन वाहनों के लिए बनाई गई है जो बहुत ज्यादा प्रदूषण फैलाते हैं। ये वाहन 15 साल पुराने हैं। अब इस उम्र के सभी वाहनों को इस नीति के माध्यम से सीधे रद्द कर दिया जाएगा। व्हीकल स्क्रैपेज पॉलिसी का सीधा मतलब कबाड वाहन धोरण है।

यह भी पढ़ें: टाटा का नया ट्रक आया ‘ऐसे’ फीचर के साथ; जो किसी महंगी कार में भी नहीं

यदि आपके पास कोई वाहन है जो 15 वर्ष से अधिक पुराना है, तो उसका पंजीकरण रद्द कर दिया जाएगा। इसलिए अब उस कार का इस्तेमाल करना प्रतिबंधित रहेगा। अगर हम इस नियम का उल्लंघन करते हुए इस वाहन का इस्तेमाल करते हैं तो मालिक और चालक पर भारी जुर्माना लगाया जाएगा। अब हमारी कारों का क्या होगा? बहुत से लोगों का यह सवाल है। इस लेख में हम इसके बारे में बहुत ही संक्षिप्त और सारगर्भित जानकारी देने जा रहे हैं।

  1. सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि प्रदूषण काफी कम हो जाएगा।
  2. अगर आप नई कार खरीदने जाते हैं तो आपकी पुरानी कार की स्क्रैप वैल्यू आपके नए वाहन की एक्स-शोरूम कीमत का 5 फीसदी होगी।
  3. एक और खास बात यह है कि नई कार के लिए कोई रजिस्ट्रेशन फीस नहीं लगेगी। इसे माफ कर दिया जाएगा।
  4. राज्य सरकार निजी वाहनों के लिए रोड टैक्स में 25 प्रतिशत और वाणिज्यिक वाहनों के लिए 15 प्रतिशत की छूट दे रही है।

सभी 10 साल पुरानी कमर्शियल और 15 साल पुरानी पर्सनल कारों का फिटनेस टेस्ट होगा। यह फिटनेस टेस्ट करना अनिवार्य होगा। अगर आपकी कार फिटनेस टेस्ट में फेल हो जाती है, तो उसे स्क्रैप करना होगा।

( बाईक-कारों पर ऑफ़र, जानकारी और सभी News प्राप्त करने के लिए लिंक पर क्लिक करके ‘द गाडीवाला’ व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें :- https://wa.me/919850875845?text=I-am-interested%20

Share.

Leave A Reply